As soon as he was hurt in childhood

बचपन में चोट लगते ही माँ हल्की फूंक मारकर कहती थी बस ठीक हो जायेगा वाकई माँ की फूंक से बड़ा कोई मरहम नहीं बना

Download View Full Screen