Why are you admiring us

इतनी मुहबत से क्यूँ नीहार रहे हैं हमे, सोच लो खुद के भी नहीं रहोगे!!

Download View Full Screen